कड़ाई बंधन की मंत्र साधना कैसे करें ?

                     कड़ाई बाँधने की मंत्र साधना 

कड़ाई बंधन या कड़ाई स्तम्भन एक ही स्थिति के दो नाम है |असल में ये कोई बहुत बड़ी दुर्लभ साधना नहीं है | अक्सर साधकों से सुना है कि मैंने इतनी माला की मगर सिद्धि नहीं मिली |पहले तो ये जान लीजिये की मंत्र सिद्धि से पहले इंसान या उस  साधक को खुद को साधना पड़ता है अर्थात मंत्र के योग्य तो बनिये | मंत्र साधना के नियम कुछ यहां जान लीजिये ताकि आपको साधना में दिक्क्त न हो | नियम जान लेने बेहद जरूरी हैं |तंत्र हो या मंत्र कुछ भी दुर्लभ नहीं है | क्या आप एक अच्छे साधक हैं ?

इसका फैसला खुद आपको आपकी आत्मा से पूछकर करना है | मंत्र सिद्धि किसी संख्या की मोहताज नहीं लेकिन मंत्र की परिपक़्वता होने तक उसका जाप आवश्यक होता है महज इसीलिए मंत्र संख्या का विधान बनाया गया है | यहाँ मुख्य बात ये है की जप के समय आपका ध्यान कितना केंद्रित रहता है बस यही महत्वपूर्ण होता है | जब तक मंत्र आपके अंदर समाहित नहीं हो जाता है तब तक आप चाहे जितना जाप करते रहिये कोई फर्क या परिणाम प्राप्त नहीं होगा | इसलिए पहले मंत्र को अपने हृदय में स्थान देना जरूरी है | अब आपका प्रश्न है की क्यों जरूरी है तो आप एक बात समझिये ,मान लीजिये आप जाप कर रहे हैं और आपका मन लगा पड़ा है अपने किसी भौतिक काम में,आप जाप तो सिद्धि के लिए कर रहे हैं  यानी उच्चारण में उस मंत्र का देवता है पर आंतरिक उथल पुथल में आपका मन लगा है और आप विचारों में उलझे हुए हैं तो ऐसा जाप करना केवल खुद को धोखा देना ही है | सिद्धि चाहिए तो पहले मनन करना सीखना होगा |

यह भी पढ़ें   क्यों किसी को आप प्रभावित नहीं कर पाते ?

जो मंत्र सिद्ध करना है कुछ दिन उसे होने साँस लेने और साँस छोड़ने पर जपिये | इससे मंत्र आपको हृदयगत हो जायेगा और सिद्धि का चांस 99 प्रतिशत बढ़ जायेगा ,बचा हुआ एक प्रतिशत आपके भाग्य के जुड़ाव पर निर्भर करता है | मंत्र के लिए गुरु यानी भौतिक गुरु जरूरी है | यानी आपके पास जीवित शरीर वाला गुरु होना चाहिए जो आपको मंत्र अपने मुख से दे सके,वो भी न मिले तो आप इंटरनेट पर गुरु बनने की दुकान खोले बैठे किसी तथाकथित गुरु के झांसे में मत आना | बीएस सांसों पर ॐ नम: शिवाय के कम से कम 6 लाख से लेकर १० लाख जाप करिये और शिव को ही गुरु बना लीजिये ,मार्गदर्शन देने वाले स्वत् ही मिलने लगेंगे | विषय को लम्बा न खींचकर आइये इस दीपावली पर सिद्धि करने का विधान जानते हैं |

                               कड़ाई बंधन मंत्र साधना के नियम

  • ब्रह्मचर्य का पालन  करना है,अपने अंदर के तेज को कायम रखें |
  • आसन कंबल का ,मुख दिशा पूर्व या उत्तर की तरफ |
  • गाय के घी का दिया जलाएं | गूगल धुप करें |
  • दीपक  चमेली  के तेल का भी कर  सकते हैं
  • सर ढककर रहे,गुरु के सान्निध्य में तो और कामयाब रहता है |
  • मंत्र एक भोजपत्र पर अष्टगंध से लिखकर धुप दिखाएँ
  • ज्वाला माई को प्रणाम करे ,अग्निदेव को भी प्रणाम करें |
  • हनुमानजी का शृंगार लाल फूलों से  करें |
  • एक माला गणेश मंत्र एक माला गुरुमंत्र ,एक माला भैरव मंत्र ,एक माला ॐ नम:शिवाय की जपे |
  • अब मंत्र जाप शुरू करते हुए लगातार ११ माला या २१ माला संकल्प लेकर जपें |
यह भी पढ़ें   ब्रह्मास्त्र क्या है ?

 

“मंत्र इस प्रकार है ”

  “ओम् नमो  आदेश गुरु जी जल बांधू जलवाई बांधू बांधू कुवा  वाहीं | नौ सो गांव का वीर बुलाऊं बांधे तेल कडाही  || जती हनुमंत की दुहाई  शब्द सांचा पिंड काचा फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा सत्य नाम आदेश गुरु को

 

 विधि व् प्रयोग :-   दीपावली कि रात्रि को  पुरे विधि विधान से उपरोक्त मन्त्र को ११ माला या २१ माला जप कर मंत्र सिद्ध करने के बाद  प्रयोग में लाया जा सकता  है.मंत्र सिद्धि अन्य दिनों में भी कर सकते हैं | दीपावली पर एक रात्रि  की  साधना है मगर साधारण समय में कमसे कम 41 दिन करें हर रोज ११ माला | हर रोज उसी समय पर करें जप | जब भी प्रयोग करना होतो रास्ते के सात कंकड लेकर उसे मंत्र से  अभिमत्रित करके कडाही पर मार दो  चाहे जितनी आग जला लेना कडाही गरम बिलकुल  नहीं होगी| मंत्र पढ़ते हुए रास्ते के सात कंकड़ जो किसी चौराहे के  नजदीक से उठाये हों पर पढ़ना है ,प्रत्येक कंकड़ पर ७ बार पढ़ना है यानी ७ पर कुल 49 बार पढ़ना है | कोशिश करें की आपको कंकड़ उठाते हुए व् अभिमंत्रित करते हुए कोई न देखे , न कंकड़  लाते समय बात करें

अग्नि स्तंभन मंत्र

                                         ओम शंकर हर हर अग्नि स्तंभय स्तंभय

इस मंत्र को शिव की मूर्ति के सामने रोज 21 माला जपना है 90 दिन में  यह सिद्ध हो जाएगा।सिद्धि  के लिए नियम व्ही रहेंगे। इसका प्रयोग 7 बार पढ़ कर फूंक मारने से या धूल पढ़कर मारने से अग्नि का स्तंभन हो जाएगा आग को जलती रहेगी पर कढ़ाई गरम नहीं होगी कढ़ाई को धोकर फिर चढ़ाने पर गर्म होगी|

Share Post
Share

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Copyright protection